Home दुनिया किसान आंदोलन के समर्थन में “जिला किसान कांग्रेस” ने प्रधानमंत्री के साथ अडानी-अंबानी का पुतला फूंका

किसान आंदोलन के समर्थन में “जिला किसान कांग्रेस” ने प्रधानमंत्री के साथ अडानी-अंबानी का पुतला फूंका

0
किसान आंदोलन के समर्थन में “जिला किसान कांग्रेस” ने प्रधानमंत्री के साथ अडानी-अंबानी का पुतला फूंका

आरा | मो. शहजाद आलम | भोजपुर जिला किसान कांग्रेस के तत्वधान में किसान संगठनों द्वारा आयोजित देशभर में किसान आंदोलन को समर्थन करते हुए आंबेडकर चौक के पास प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अडानी-अंबानी का पुतला दहन का आक्रोश सभा का आयोजन  जिला संयोजक श्याम सुंदर पांडे उर्फ बिजली बाबा की अध्यक्षता में किया गया। 

इस अवसर पर आयोजित आक्रोश सभा को संबोधित करते हुए मुख्य वक्ता बिहार प्रदेश किसान कांग्रेस के उपाध्यक्ष  प्रमोद राय अधिवक्ता ने कहा कि किसानों की फसलों का  न्यूनतम समर्थन मूल्य की गारंटी देने के बदले मोदी सरकार आंदोलन कर रहे किसानों पर वाटर कैनन, आंसू गैस का बौछार कर किसानों को मानसिक शारीरिक व मानसिक रूप से प्रताड़ित कर रही है। प्रमोद राय ने कहा कि सरकार किसानों की आर्थिक दशा बद से बदतर करना चाहती है। कांग्रेस मोदी के किसान विरोधी रवैए का पर्दाफाश करती रहेगी। 

भोजपुर जिला कांग्रेस के वरीय नेता नेशनल डायरी के  संपादक पंडित कुंज बिहारी उपाध्याय, मध्य प्रदेश प्रतिनिधि  जितेंद्र शर्मा, भोजपुर जिला कांग्रेस के पूर्व महासचिव प्रोफेसर राजेंद्र ओझा, बिहार प्रदेश किसान कांग्रेस के सचिव शिव शंकर चौबे, विजेंद्र यादव ने कहा कि किसान ऊपज़ व्यापार एवं वाणिज्य संभल संवर्धन एवं सुविधा विधायक 2020 किसान सशक्तिकरण एवं संरक्षण  मूल्य  आश्वासन अनुबंध एवं कृषि सेवा  विधेयक  एवं आवश्यक वस्तु संशोधन विधेयक को किसानों के हित में  पूर्णता निरस्त करें  बिजली बिल संशोधन विधेयक 2020 को निरस्त करें। किसानों का बैंक ऋण माफ करें।

मंच संचालन जिला कांग्रेस सांस्कृतिक प्रकोष्ठ के अध्यक्ष मुक्तेश्वर उपाध्याय ने किया जबकि धन्यवाद ज्ञापन  भोजपुर जिला किसान कांग्रेस के महासचिव प्रोफेसर राजकुमार दास ने किया।

कार्यक्रम में जिला किसान कांग्रेस के उपाध्यक्ष मदन मोहन तिवारी,बिहार प्रदेश कांग्रेस सेवा दल के पूर्व संगठन मंत्री सत्यनारायण प्रसाद सिन्हा, गजेंद्र चौधरी,राजू पाठक, प्रोफ़ेसर हरे गोविंद ओझा, प्रोफेसर अरुण सिंह, रतन धामालिया, सत्यप्रकाश राय, अफजल हुसैन, चांद  बिलाल अहमद, मोहन दुबे, शुभ नारायण दुबे एवं लुटावन राम चौरसिया आदि उपस्थित थे।